ब्लड - रक्त शरीर में तेजी से संचार करता है। स्वस्थ शरीर के लिए प्रर्याप्त शुद्ध रक्त मौजूद होना जरूरी है। रक्त के बारे खास रोचक आश्चर्यजनक तथ्य इस प्रकार से हैं। जिन्हें जानकर आप हैरान रह जायेंगे।

रक्त के बारे आश्चर्यजनक तथ्य / Rak ke bare me Tathya / Blood Facts in Hindi / Interesting facts about / Facts about Blood

रक्त के बारे आश्चर्यजनक तथ्य, Blood Facts in Hindi, rak ke bare me tathya, रक्त के बारे में रोचक तथ्य, Interesting facts about blood, khoon ke bare me tathya, Facts about Blood in Hindi

  • रक्त लाल रक्त कोशिकाओं, सफेद रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेटस से बना होता है।
  • रक्त कोशिकाओं में हल्के पीले रंग का तरल पदार्थ मौजूद हैं। जिसे प्लाज्मा कहा जाता है।
  • रक्त प्लाज्मा में 90 प्रतिशत पानी तरल रूप में है। जिसमें विभिन्न पौषण, इलेक्ट्रोलाइटस, प्रोटीन, ग्लूकोज, हार्मोंस होते हैं।
  • शरीर में रक्त 400 किमी. प्रति घण्टा की रफ्तार से संचार - भ्रमण करता है। रक्त शरीर संचार में 24 घण्टे में लगभग 9,600 किमी. की दूरी तय कर लेता है।
  • नवजात शिशु के शरीर में मात्र 250ml तक रक्त होता है।
  • वयस्क व्यक्ति के शरीर में लगभग 5 लीटर तक ब्लड मौजूद है।
  • शरीर के वजन का लगभग 7 प्रतिशत वजन तक शरीर में रक्त होता है।
  • रक्त की 1 बूंद में लगभग 250 मिलियन सूक्ष्म कोशिकाएं मौजूद होती हैं।
  • मात्र 1 बूंद रक्त में 10,000 White Blood Cells और 2,50,000 प्लेट्स होते हैं।
  • शरीर में 70 प्रतिशत तक Red Blood मौजूद है।
  • लाल रक्त शरीर में आॅक्सीजन संचार और CO2 (कार्बन डाईआॅक्साइड विषाक्त) को नष्ट करता है।
  • सफेद रक्त शरीर को बैक्टीरिया, संक्रमण और वायरल से बचाती है। सफेद रक्त रोगप्रतिरोधक क्षमता बनाती है।
  • व्यस्क पुरूष में हीमोग्लोबिन 13.8 g/dl से लेकर 17.2 g/dl तक और स्त्री में हीमोग्लोबिन में 13.8 g/dl से लेकर 15.1 g/dl तक सही माना जाता है।
  • रक्त प्लाज्मा में प्रोटीन जमने से बचाती है। रक्त संचार सुचारू करती है।
  • शरीर में चोट, घाव लगने पर सफेद रक्त तरल रूप में प्लेट्स बनाती है। जिससे चोट घाव निशान पर रक्त जम जाता है, और बहना बन्द हो जाता है।
  • पहली बार सन् 15 जून, 1667 में 2 कुत्तों में आपस में रक्त ट्रांसफर किया गया था।
  • नारियल पानी को शुद्धकर Blood Plasma की जगह चढ़ाया जा सकता है।
  • प्रथम Blood Bank सन् 1937 में बनाया गया था।
  • रक्तदान महादान है। रक्तदान से बढ़कर कोई दान नहीं। रक्तदान से शरीर में मौजूद कई बीमारियां धीरे-धीरे मिट जाती हैं। क्योंकि Blood Donate करने से शरीर में नया रक्त बनता है। पुराने रक्त सेल्स नये रक्त सेल्स में बदल जाते हैं।
  • हर दिन पूरी दुनिया में लगभग 40,000 यूनिट ब्लड की जरूरत पड़ती है। हर व्यक्ति को लाईफ में 2-3 बार रक्त दान जरूर करना चाहिए।
  • James Harrison एक रहस्यमई इंसान हैं। उन्होंने 60 साल आयु तक 1000 बार रक्तदान कर चुके हैं। 20 लाख व्यक्तियों रक्तदान द्वारा जीवन देने का श्रेय उनके नाम है।
  • स्वीडिश लोग रक्तदान के समय और रक्त किसी व्यक्ति पर चढ़ने के बाद दो बार ब्लड डोनर को Thank You मैसेज जाता है।
  • रक्त पूरे शरीर के भ्रमण चक्कर लगाने में लगभग 30 सेकेंड तक का समय लेता है।
  • गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली स्त्रियां Blood Donate नही कर सकती।
  • ब्राजील के 1 आदिवासी समुदाय के सभी लोगों का रक्त ग्रुप केवल "O" है।
  • रक्त में लगभग 0.2 मिलीग्राम तक सोना घुलनशील रूप में मौजूद है। लगभग 40,000 व्यक्तियों के रक्त से 8 ग्राम तक सोना निकाला जा सकता है।
  • शरीर में असंख्य अनगिनत रक्त झिल्ली, कोशिकाए, तंतु, वहिकाएं नसें होती हैं। अगर सभी को सिरे से सिरे जोड़ दिया जाएं तो वह पूरी धरती को 2 बार लपेट सकते हैं।
  • मानव रक्त मुख्य रूप से A, B, AB, O तरह का होता है। इन्ही चारों तरह से अन्य सभी ब्लड गु्रप बनते हैं।
  • जानवरों में गायों के लगभग 800 तरह का ब्लड, कुत्तों में 13 तरह का ब्लड और बिल्लयों में 11 तरह का ब्लड मौजूद है।
  • मृत्यु के बाद शरीर का रक्त गुरूत्वाआर्कषण के कारण जमीन की तरफ जुड़े शरीर में जम जाता है। व्यक्ति जिस स्थिति में मृत पड़ा होता है। ब्लड एकत्र होकर जमकर ठंड़ा हो जाता है।
  • एक ही समय पर रक्तदान और पेशाब नहीं कर सकते हैं। रक्तदान के दौरान मस्तिष्क अन्य शरीर अंग को निकासी की अनुमति नहीं देता है। ब्रेन शरीर अंगों एवं आंतरिक प्रणाली को निर्देश देता है।
  • मादा मच्छर अपने वजन से 3 गुना ज्यादा रक्त चूसती है। जबकि नर मच्छर शाकाहारी होता है। तरल पदार्थ, वनस्पति रस, गंदगी सड़न तरल पीते हैं।
  • मच्छर "O" गु्रप का रक्त पीना ज्यादा पसंद करते हैं।
  • 12 लाख मच्छर शरीर का पूरा रक्त मात्र 2 मिनट में चूस सकते हैं।
  • मकड़ी, घोंघा, केकड़ा में नीले रंग का रक्त होता है। केकड़ों का ब्लड ड्रग्स के दूषित पदार्थों की जांच के लिए किया जाता है।