बहुउपयोगी चमेली फूल Chamelee - Jasmine Flower in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide बहुउपयोगी चमेली फूल Chamelee - Jasmine Flower in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

बहुउपयोगी चमेली फूल Chamelee - Jasmine Flower in Hindi

मनमोहक चेमली फूल सुगन्धित खुशबू बिखेरने में खास है। चमेली धार्मिक कार्यों - पूजा में अर्पित, बालों को संवारने - सौन्दर्य निखार, सजावट के साथ-साथ आर्युवेद में औषधि रूप में प्रसिद्ध है। चमेली से खास तेल, साबुन, परफ्यूम, ब्यूटी प्रोड्क्स बनाये जाते हैं। चमेली पेड़ लगभग 4-5 मीटर तक ऊंचे होते हैं। फूल रंग ज्यादात्तर सफेद होते हैं। और चमेली अन्य प्रजातियां के फूल रंग पीले, लाल रंग में खिलते हैं। और चमेली फूल आकार में 3 सेमी तक चैड़े बड़े और 5-7 तक पंखुड़ियां होते हैं। चमेली के फूल, पत्ते, बीज औषधि रूप में इस्तेमाल किये जाते हैं। अकसर चमेली पुष्प रात को खिलते हैं, और सुबह धूप लगने पर झड़ जाते हैं। चमेली पेड़ पर फूल अगस्त से दिसम्बर माह तक लगते हैं। यह भोगोलिक वातावरण पर निर्भर करता है। चमेली पेड़ भारत में अधिकत्तर हिमालय क्षेत्र और लगभग सभी राज्यों में पाये जाते हैं। चमेली पेड़ के आस-पास हमेशा फूलों की मनमोहक खुशबू महकती रहती है। चमेली वृक्ष घर के आसपास होना एक समृद्धि-खुशहाली का प्रतीक माना जाता है। चमेली को पवित्र माना जाता है। जैसमिन को Gift of God भी कहा जाता है।

बहुउपयोगी चमेली फूल / चमेली फूल औषधि / चमेली फूल, तेल, पत्तों से फायदे  / Jasmine Flower Remedy / Chameli Phool ke Fayde / Chameli ke Phool ka Upyog / Jasmine Flower ke Istemal 

बहुउपयोगी चमेली फूल, Chamelee, Jasmine Flower in Hindi , chameli phool ke fayde, चमेली के फूल के फायदे, chameli flower, चमेली फूल, chameli ke phool ka upyog, jasmine flower uses, jasmine flower ke istemal, jasmine flower remedy, चमेली फूल औषधि

चेमली को कई नामों हरसिंगार, परिजात, शेफली, मल्लिका, चमली बेला, मोगरा, नैकथैनथिस-अरबोरट्रिसटिस, जैसमिन, Jasmine, Jasminum, Eurasia, Australasia and Oceania से जाना जाता है। चीन, जापान, उत्तरी ध्रव प्रदेशों में चमेली फूल उपयोग चाय, काॅफी, पौष्टिक पेय, दवाईयां, प्रसाधन में बहु मात्रा किया जाता है। चमेली रिच एंटीआक्सीडेंटस, एजीसीजी कैफीन और खास जरूरी पौषक तत्वों का भरपूर भण्डार है। 

छाले - घाव में चमेली फूल 
मुंह के छाले और छालों से होने से घाव मिटाने के लिए चमेली के ताजे फूलों को पान की तरह चबाना फायदेमंद है।

त्वचा रोगों में चमेली फूल
त्वचा रोगों जैसे दाद - खाज - खुजली मिटाने के लिए ताजे चमेली फूलों को बारीक पीसकर लेप ग्रसित त्वचा पर लगाने से समस्या से जल्दी आराम मिलता है।

वजन घटाये चमेली चाय 
चमेली फूल रोज सुबह शाम चाय, गुनगुने पानी, भोजन के साथ सेवन करने से वजन घटता है। चमेली फूल चाय शरीर से अतिरिक्त वसा फैट बर्न करने में खास माना जाते है।

सरदर्द, तनाव मिटाये चमेली फूल, तेल 
सरदर्द, तनाव समस्या लगातार रहने पर चमेली के फूलों को सूघना और चमेली के फूलों को पीसकर लेप माथे पर नियमित लगाने से सरदर्द तनाव से आराम मिलता है। और सरदर्द, तनाव समस्या रहने पर चमेली तेल से सिर पर मसाज करें।

चमेली तेल मसाज 

चमेली तेल से बालों को रिच पोषण श्रोत है। चमेली तेल बालों को जरूरी पौषण के साथ-साथ बाल टूटने, झड़ने से बचाने में खास है।

आंखों की जलन दर्द में चमेली
आंखों में जलन, दर्द, सूजन होने पर आंखों को ठंड़े पानी से धोयें। फिर चमेली फूलों को पीसकर मिश्री के साथ लेप आंखों के नीचे- चारों तरह की त्वचा पर लगाने से आंखों की जलन, दर्द, सूजन से जल्दी आराम मिलता है। आंखों के विकारों में ठंड़क आराम पहुंचाने में चमेली फूल मिश्री मिश्रण लेप करना फायदेमंद है।

फटी एड़ियों, झुर्रियों के लिए चमेली तेल
फटी एड़ियों, झुर्रियों पर रोज सुबह-शाम चमेली तेल मालिश करने से समस्या से जल्दी छुटकारा दिलाने में खास सहायक है। चमेली तेल फटी एड़ियों, झुर्रियों, रूखी त्वचा के लिए खास माना जाता है।

डायबिटीज नियंत्रण करे चमेली फूल 
चमेली के फूल को पानी, चाय, काॅफी के साथ सेवन करने से ब्लड शुगर और ग्लूकोस स्तर नियंत्रण रखने में सहायक है। डायबिटीज मरीज के लिए चमेली के फूल एक तरह से नेचुरल इंसुलिन का काम करती हैं।

गैस कब्ज बदहजमी में चमेली फूल 
पेट पाचन सम्बन्धित समस्यों में चमेली फूल सुबह चाय, पानी के साथ सेवन करना फायदेमंद है। चमेली पुष्प पेट साफ और पाचन दुरूस्त करने में खास है।

पाईल्स में चमेली
बवासीर समस्या में चमेली फूलों का रस, गिलोय पत्तों का रस, अदरक रस, धनिया पत्तों का रस 2 चम्मच रस सुबह शाम 1 गिलास छाछ के साथ मिलाकर सेवन करने पर खूनी बवासीर में जल्दी आराम मिलता है। नमक, मिर्च, मसालेदार, चटपटा, तेलीय खाने से परहेज करें।

लीवर स्वस्थ रखे चमेली 
लीवर कमजोरी में चमेली फूलों का रस, पानी, चाय के साथ सेवन करना फायदेमंद है।

पेट कीड़ों के लिए चमेली प्राकृतिक दवा 
पेट में कीड़ों की समस्या में चमेली के कोमल पत्तों का रस और कलौंजी गुनगुने पानी के साथ पीने से पेट के कीड़े नष्ट करने में सहायक है।

त्वचा निखार में चमेली फूल रस 
चेहरे त्वचा पर दाग- धब्बे मिटाने के लिए चमेली फूलों को रगड़ना फायदेमंद है। चमेली फूल रस त्वचा पर नेचुरल निखार ग्लो बनाने में सहायक है। और चमेली तेल त्वचा पर मालिश करने से विषाक्त रोमछिद्रो से आसानी से निकल जाते हैं।

बालों के लिए चमेली नेचुरल शैम्पू 
बालों को मुलायम, चमकदार, मजबूत बनाने के लिए चमेली फूल रस और बेकिंग सोडा मिश्रण खास प्राकृतिक शैम्पू है। चमेली पुष्प बालों को सौन्दर्य के साथ जरूरी पोषण पहुंचाने में सक्षम है। चमेली फूल रस बालों के लिए किसी कडिश्नर और शैम्पू से कम नहीं है। मजबूत, चमकदार बालों के लिए चमेली तेल फायदेमंद है।

गठिया-साइटिका में चमेली फूल
गठिया, साइटिका दर्द सूजन में चमेली फूलों के रस में लहसुन पकाकर ग्रसित अंगों पर रगड़कर मालिश करने से दर्द सूजन से आराम दिलाने में सहायक है। बचे लहसुन को मसल लेपकर ग्रसित आंगों पर पट्टी कर दें।

कामोत्तर शक्ति बढ़ाये चमेली फूल 
चमेली फूल से खास कामोत्तर शक्ति बढ़ाने आकर्षण करने के लिए परफ्यूम, सेंट बनाये जाते हैं। चमेली फूल अपने आप में खास मनमोहक लुभाने वाला पुष्प है। अकसर महिलाए खास अवसरों पर चमेली फूल माला से बालों को सवांरती हैं। चमेली फूल मधुहोश सुगन्ध कामुत्तर आकर्षण करने में सहायक है।