स्वास्थ्यवर्धक पौष्टिक शहतूत Healthy Nutritional Shahtoot in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide स्वास्थ्यवर्धक पौष्टिक शहतूत Healthy Nutritional Shahtoot in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

स्वास्थ्यवर्धक पौष्टिक शहतूत Healthy Nutritional Shahtoot in Hindi

शहतूत शहद की तरह मिठास और पौष्टिक भरपूर फल है। शहतूत स्वादिष्ट पौष्टिक निरोग फल है। शहतूत प्राचीनकालीन प्रसिद्ध औषधि रूप है। शहतूत दो तरह के होते हैं। पहला हरा-गहरा लाल शहतूत और दूसर काला शहतूत। आम भाषा में छोटा और बड़ा शहतूत से भी पुकारा जाता है। दोनों ही तरह के शहतूत फल, जूस सेवन फायदेमंद है। शहतूत में विटामिन-ए, पोटाशियम, फाॅस्फोरस, पोटेशियम, आयरन, प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, शर्करा, विटामिनस मिनरलस बहु मात्रा में मौदूद होता है।
शहतूत रिच एंटीआक्सीडेंट फल है। शहतूत एक तरह से न्यूट्रिशन फल है। शहतूत फूल, फूल, पत्ते तने तीनों रूप में इस्तेमाल किया जाता है। शहतूत फल दो तरह से खाया जाने वाला पौष्टिक फल है। कुछ लोग शहतूत को कच्चा खाना पसंद करते हैं और कुछ लोग शहतूत का पकने पर खाना पसंद करते हैं। शहतूत कच्चे और पक्के दोनों तरह से पौष्टिकता से भरपूर फल है। शहतूत रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला फल है।

स्वास्थ्यवर्धक पौष्टिक शहतूत / शहतूत खाने के फायदे / Healthy Nutritional Shahtoot in Hindi / Shahtoot ke Fayde


स्वास्थ्यवर्धक पौष्टिक शहतूत , Healthy Nutritional Shahtoot in Hindi, Shahtoot ke fayde, शहतूत खाने के फायदे, swasthya vardhak postic Shahtoot, Shahtoot postic phal, शहतूत पौष्टिक फल

  • आंखों की रोशनी कमजोर होने पर या आंखों से सम्बन्धित समस्याओं में शहतूत पके फल दूध के साथ सेवन करना फायदेमंद है।
  • यूरिक एसिड़ बढ़ने पर एडियों पावों के दर्द से तुरन्त आराम के लिए शहतूत को काली मिर्च पाउडर, काला नमक के साथ खाना फायदेमंद है। शहतूत यूरिक एसिड़ में क्रिसटल जमने से रोकने में सहायक है।
  • गर्मी लू से शरीर को बचाने में शहतूत फल सेवन फायदेमंद है। शहतूत शरीर में शीतलता प्रदान करता है। शहतूत की स्वादिष्ट तासीर शरीर को गर्मी मौसम में बड़ी ठंड़क पहुंचाती है।
  • पीलिया रोग में शहतूत फल और पत्तियों का रस गन्ने के साथ सेवन करना फायदेमंद है। और साथ में मूली हरी पत्तियों की सब्जी खायें
  • लीवर, पाचन सम्बन्धित समस्याओं में मीठे शहतूत फल गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। लीवर और पाचन विकारों के लिए शहतूत अचूक औषधि रूप है।
  • किड़नी स्टोन होने पर रोज पके मीठे शहतूत फलों को खायें। और शहतूत रस सादे पानी में घोलकर पीने से किड़नी स्टोन दर्द से जल्दी निजाद मिलता है। शहतूत रस को प्र्याप्त पानी के साथ पीने से पित्त थैली के बाहर बना स्टोन कमजोर होकर - घटकर पेशाब मार्ग से बाहर आने में सहायक है।
  • शरीर पर चोट घाव, फोड़ा, खुजली होने पर शहतूत की कोमल पत्तों के रस और शहतूत के कोमल पत्तों को पीसकर लेप लगाने से घाव, फोड़े, फुंसियों से जल्दी छुटकारा मिलता है। और त्वचा मुलायम बनाने में सहायक है। त्वचा से कींल - मुंहासों के दाग मिटाने में शहतूत के फूलों को पीसकर चेहरे पर लगाना फायदेमंद है।
  • सर्दी जुकाम से गले की खराश, अवाज बैठने पर शहतूत पत्तें, चुटकी भर नमक के साथ उबालें। हल्का गुनगुना होने पर गर्रारा करें। शहतूत गले के लिए रामबाण दवा है।
  • चारपाई में खटमल होने पर शहतूत के कोमल पत्तों का रस चारपाई - बेड खाली जगहों पर डालने से खटमल और खटमल अण्डे़ धीरे-धीरे अपने आप खत्म करने में सहायक है।
  • कब्ज, गैस- एसिडिटी समस्या में कच्चे हरे शहतूत खाने से समस्याओं से जल्दी छुटकारा मिलता है।
  • मुंह में छाले पड़ने पर मीठे पके शहतूत फल खायें। शहतूत के कोमल पत्तों को उबाल कर ठंड़ा होने पर कुल्ला करें। बाद में दहीं खायें। इससे मुंह के छाले शीघ्र ठीक हो जाते हैं।
  • गले में टांसिलस - गिलटी बढ़ने पर शहतूत फल रस को गुनगुने में मिलाकर गर्रारा करने से टांसिल, गिलटी, गले के फोड़े बैठ जाते हैं। और दर्द, सूजन से जल्दी छुटकारा मिलता है।
  • हार्ट मरीज के लिए कच्चे शहतूत फल और शहतूत के कोमल पत्तों का रस सेवन फायदेमंद है। शहतूत रक्त पतला करने में सहायक है। शहतूत से दिल धड़कने सुचारू सामान्य रहती हैं।
  • पेट में जलन, गले में जलन होने पर पके मीठे शहतूत फलों का शर्बत पीना फायदेमंद है। शहतूत पेट, गले की जलन ठीक करने में सहायक है।
  • ज्यादा वर्कआउट, जिंम, रस्सीकूद, दौड़भाग करने वाले व्यक्तियों के लिए पका मीठा शहतूत फल और दूध मिश्रण सेवन करना फायदेमंद है। शहतूत फल और दूध शरीर में अतिरिक्त ऊर्जा बनाने में सहायक है।
  • तेजी से वजन घटाने के लिए रोज सुबह शाम शहतूत पत्तों का उबला पानी पीयें। और रस्सीकूद करें। इससे मात्र 25-30 दिनों में शरीर वजन नियंत्रण में आ जाता है। शहतूत पत्तों का पानी फैट बर्न करने में खास सहायक है।
  • पेट में कीड़े होने पर मीठे शहतूत फलों को कलौंजी के साथ खाने से पेट के कीड़ 48 घण्टे में अन्दर साफ हो जाते हैं।
  • कोलेस्ट्राॅल बढ़ने और अनियंत्रित होने पर मीठे शहतूत फल रस और नींबू रस सेवन अचूक औषधि रूप है।
  • रक्त की कमी होने पर शहतूत खूब खायें। शहतूत फल दूध के साथ खाने से तेजी से रक्त की दूर होती है।
  • बालों नेचुरली काला रखने के लिए शहतूत खाना फायदेमंद है। काले शहतूत रस मेहंदी पाउडर के साथ बालों पर लगाने से बाल नेचुरली काले और बालों को जड़ से पौषण पहुंचाने में सहायक है।
  • शहतूत में रिच आक्सीडेंट की मात्रा पाई गई। कैंसर पीड़ित व्यक्ति के लिए शहतूत जूस, शहतूत फल खाना फायदेमंद है।