शीतकालीन स्वास्थ्य सुझाव Winter Health Tips in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide शीतकालीन स्वास्थ्य सुझाव Winter Health Tips in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

शीतकालीन स्वास्थ्य सुझाव Winter Health Tips in Hindi


बदलते मौसम में सर्दी, जुकाम, बुखार, संक्रामण, पाचन गड़बडाना और ठंड लगने से होने वाली विकारों समस्याऐं होने का भय सबसे ज्यादा बना रहता है। शरीर को स्वस्थ रखने और संक्रामण वायरल से बचाना अति आवश्यक हो जाता है। रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले मसालों, फलों, खाद्यपदार्थ सेवन, ऊनी गर्म कपड़े पोशाक पहनना जरूरी हो जाता हैं। सर्दी मौसम में हेल्थ पर विशेष ध्यान देना जरूरी है। क्योंकि मौसम में थोड़ी सी लापरवाही सर्दी जुकाम बुखार निमोनिया संक्रामण का कारण बन जाता है।

शीतकालीन स्वास्थ्य सुझाव / सर्दियों में स्वस्थ रहने के खास सुझाव / WINTER HEALTH TIPS IN HINDI / SARDI MOSAM KI SWASTHYA SUJHAV

शीतकालीन स्वास्थ्य सुझाव, Winter Health Tips in Hindi, शीतकालीन स्वास्थ्य , WINTER HEALTH, सर्दियों में स्वास्थ्य की देखभाल, Stay Fit This Winter With These Simple Tips, Health Tips For Winter Season, शीतकालीन मौसम स्वास्थ्य, sheet kalin mausam swasthya, winter health advice, सर्दी में सेहत के टिप्स

एंटीबायोटिक-एंटीबैक्ट्रीयल मसाले हर्बल 
सर्दी मौसम में अदरक, हलसुन, लौंग, इलायची, दालचीनी, तुलसी, पुदीना, मसालों का सेवन उत्तम है। जैसे अदरक तुलसी चाय, सूप पीना, किंचन में खाने में मसालों का इस्तेमाल करना बदले मौसम में सर्दी, जुकाम, बुखार, संक्रामण, पाचनतंत्र गड़बड़ी, ठंड लगने से दूर रखने में सक्षम है। मसाले हर्बल प्राकृति रिच सुरक्षित एंटीबायोटिक, एंटीइंफ्लेमेंट्री, एंटीफंगल, एंटीसेप्टिक, एंटीबैक्ट्रीयल जैसे गुणों से भरपूर हैं। मसाले हर्बल सेवन रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का अच्छा सुरक्षित माध्यम है।

आंवला-शहद एंटीइंफ्लेमेंट्री, एंटीफंगल, एंटीसेप्टिक
सर्दियों में आंवला, शहद, आंवला कैंडी खाना स्वस्थ निरोग स्वास्थ्य की पहचान है। आंवला शहद् पाचन तंत्र को दुरूस्त रखने, त्वचा से सम्बन्धित विकारों दूर रखने, बालों जड़ से मजबूत, पौषण संचार और किड़नी, फेफड़े, हृदय को स्वस्थ रोगमुक्त रखने सहायक है। आंवला शहद सर्दियों में खास रक्षा कवच बनाने में सक्षम है।

अण्डा मछली रिच प्रोटीन, ओमेगा-3, विटामिनस ऊर्जा स्रोत
नॉनबेज खाने वाले व्यक्ति के लिए सर्दियों में अण्डा मछली सेवन रिच प्रोटीन, ओमेगा-3, विटामिनस ऊर्जा पूर्ति आसानी से हो जाती है। अण्डा मछली सेवन शरीर को स्वस्थ ऊर्जावान रखने में सहायक है।

पत्तेदार हरी सब्जियां
पालक, सरसों, राई, हलसुन पत्तियां, हरी सब्जियां सर्दियों में सेहत को स्वस्थ निरोग रखने में सक्षम है। हरी सब्जियां पाचन तंत्र से लेकर नजर विकार और आंतरिक शरीरिक विकारों से दूर रखने में सक्षम है।

फलों का रस
सर्दियों में गाजर, अनार, मौसमी, सन्तरा, चुकन्दर, अन्नास आदि का रस सेवन करना फायदेमंद है। रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में फल सेवन खास फायदेमंद हैं।

डाईफ्रूटस नट्स मेवा 
सर्दी मौसम में अखरोट, काजू, बादाम, छुआरे, मूंगफली, किशमिश, मेवा इत्यादि डाईफ्रूटस नट्स खाना फायदेमंद है। डाईफ्रूटस नट्स मेवा प्रोटीन विटामिनस मिनरलस का रिच श्रोत है।

गले को संक्रामण से बचायें 
सर्दी मौसम में खानपान पर खास ध्यान देना जरूरी है। तली भुनी चीजों, जंकफूड, सोड़ा पेय, आईसक्रीम, ठंड़ा पानी सेवन से परहेज करें। तली भुनी चीजों, जंकफूड, सोड़ा ठंड़ा पेय, आईसक्रीम, ठंड़ा पानी सेवन से सर्दी-जुकाम संक्रामण वायरल फैलने का भय ज्यादा बना रहता है।

शरीर फिटनेस 
सर्दी मौसम में व्यक्ति थोड़ा आलस्य हो जाता है। सर्दी मौसम में शरीर को मोटापा, चर्बी बढ़ने से बचाने के लिए और शरीर को फिट रखने के लिए रोज सैर, योगा, व्यायाम जरूरी हो जाता है। सर्दी मौसम में शरीर मोटापा, वजन बढ़ने का भय ज्यादा बना रहता है।

सीमित मात्रा में पोष्टिक आहार 
सर्दी मौसम में खाना आसानी से पच जाता है। परन्तु ज्यादा तैलीय, प्रोटीन वाले खाद्यपदार्थों से मोटापा, वजन, अपचन, गैस, एसिडिटी का भय बना रहता है। पोष्टिक संतुलित आहार सीमित मात्रा सीमित मात्रा में खायें। ज्यादा खाने से बचें। खाने के बाद गुनगुने पानी से गर्रारा करें। और थोड़ा से गुनगुना पानी पीयें। गुनगुना पानी गर्रारा और गुनगुना सेवन गले विकारों संक्रामण को रोकने में सक्षम है।

गर्म सर्दी रोधक कपड़े पोशाक 
सर्दी मौसम में शरीर को पूर्णरूप से ठंड़ी हवा, संक्रामण, वायरल से बचाने में गर्म ऊनी कपड़ों सही पूर्ण पोशाक का खास स्थान है। फैशन, विज्ञापनों के बहकावे, चक्कर में नहीं आयें। जीवन अनमोल है। स्वस्थ शरीर के लिए सर्दियों में पूर्ण गर्म ऊनी कपड़ें सही पोशाक पहनना जरूरी है। बच्चे बड़ों सभी को ठंड़ी हवा सर्दी लगने से बचाने जरूरी है। जिसमें सही पहनावा और गर्म पोशाक खास है।