सिंहपर्णी औषधि Dandelion Root, Sinhaparni in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide सिंहपर्णी औषधि Dandelion Root, Sinhaparni in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

सिंहपर्णी औषधि Dandelion Root, Sinhaparni in Hindi

सिंहपर्णी आयुर्वेदिक औषधि उपयोग प्राचीन काल से ही होता आ रहा है। आर्युवेद में सिंहपर्णी की जड़ें, फूल, पत्ते, तने के गुणों के बारे में वर्णन किया गया है। सिंहपर्णी पेट विकार गैस, कब्ज, पाचन, लीवर, डायबिडीज, किड़नी स्टोन, नजर दोष, पाइल्स, गठिया जोड़ों के दर्द, चोट, आंतरिक विकार में इस्तेमाल किया जाता है। शोध में सिंहपर्णी में रिच बीटा कैरोटीन, फाइबर, विटामिन-ए, विटामिन-सी, फाॅस्फोरस, मैग्नीशियम, जिंक, फाइबर, पोटेशियम, आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम की मात्रा मौजूद है। सिंहपर्णी के पत्ते हरे नुकीले, फूल पीले रंग के, जड़ लम्बी छोटी गांठदार, बारीक रेशों में, और जड़े गहरे पीले रंग की होती है। सिंहपर्णी पौधे घर पर गमलों पर भी आसानी से उगाये जाते हैं। सिंहपर्णी प्राकृतिक रिच गुणों से भरपूर औषधि है। कई देशों में सिंहपर्णी की खेती की जाती है। सिंहपर्णी पौधा अकसर नदी किनारे, तालाब किनारे, खाली जगह, बंजर खाली जगहों पर आमतौर पर पाई जाती है। सिंहपर्णी फूल, जड़ पाउड़र, तना महंगे दामों में बाजार में बेची जाती है। सिंहपर्णी का इस्तेमाल चाय से लेकर सौंदर्य प्रशाधन, दवाइंयां बनाने में तेजी से इस्तेमाल हो रहा है। डेंडिलियन हर्बल रेमिडी खास गुणों से परिपूर्ण है।

सिंहपर्णी औषधि / सिंहपर्णी के उपयोग / Sinhaparni Benefits in Hindi / Singhparni ke Fayde / Singhparni Ayurvedic Aushadhi / Singhparni ke upyog


सिंहपर्णी औषधि , Dandelion Root, Sinhaparni in Hindi, singhparni ke fayde, singhparni ayurvedic aushadhi, सिंहपर्णी आयुर्वेदिक औषधि, singhparni ke upyog, सिंहपर्णी के उपयोग, सिंहपर्णी पौधे, Dandelion Plants, dandelion medicinal uses

सिंहपर्णी पौधे का इस्तेमाल

  • सिंहपर्णी जड़ पाउडर
  • पत्तियां चबाकर, उबालकर
  • तना उबालकर
  • फूल रस
  • बीज पाउडर 

पाचन में सहायक

सिंहपर्णी जड़ पाउडर गुनगुने पानी के साथ सेवन, पत्ते, तने उबालकर सेवन करने से पाचनतंत्र दुरूस्त रखने में सक्षम है। पेट की समस्त बीमारियों विकारों जैसे गैस, कब्ज, एसिडटी, अपचन, लीवर विकार में सिंहपर्णी काढ़ा सेवन फायदेमंद है। सिंहपर्णी पेट विकारों के लिए खास प्राकृतिक औषधि है। सिंहपर्णी पाचनतंत्र के लिए खास है।

किड़नी विकार में सिंहपर्णी

सिंहपर्णी किड़नी विकार, पथरी, किड़नी फेल, किड़नी डायलिसिस रोकने में सक्षम है। सिंहपर्णी जड़, पत्ते, फूल, तना किड़नी विकार के लिए खास दवा मानी जाती है।

आंखों की रोशनी बढ़ाये

सिंहपर्णी चाय, काढ़ा सेवन आंखों की रोशनी तेजी करने में सहायक है। सिंहपर्णी बीटा कैरोटीन, आयरन, प्रोटीन रिच मात्रा में मौजूद है।

मूत्र विकार मिटाये सिंहपर्णी

पेशाब रूक-रूक कर आना, पेशाब जलन, पेशाब नली में दर्द, अण्डाशय में दर्द पेशाब विकार दूर करने में सिंहपर्णी सक्षम है। सिंहपर्णी अण्डाशय में माइक्रोबिलयमस, इन्फेक्शन को रोकने ठीक करने में खास सहायक है। सिंहपर्णी औषधि की तरह है।

डायबिटीज में सिंहपर्णी सेवन

डायबिटीज में सिंहपर्णी जड़, तना, फूल नियत्रंण करने में सक्षम है। सिंहपर्णी की जड़ें एक तरह से नेचुरल इंसुलिन का काम करता है।

हाई ब्लडप्रेशर में सिंहपर्णी

हाई ब्लडप्रेशर में सिंहपर्णी सेवन सहायक है। सिंहपर्णी रस काढ़े को नींबू के साथ सेवन करना फायदेमंद है। सिंहपर्णी में पोटैशियम, मैग्नीशियम, फाइबर, आयरन, रिच मात्रा में मौजूद है। सिंहपर्णी कोलेस्ट्राॅल नियत्रंण करने में खास सहायक है।

रक्त शोधन सिंहपर्णी

सिंहपर्णी रक्त साफ करने में सहायक है। सिंहपर्णी पत्ते, फूल, तना, जड़ सेवन खून से विषाक्त पदार्थ निकालने और नष्ट करने करने में खास है।

त्वचा रोग मिटाये सिंहपर्णी

चेहरे त्वचा पर लम्बे समय से लगातार होने वाले खाज, खुजली, दाने, फुंसी दाग मिटाने में सिंहपर्णी फूल पेस्ट सहायक है। सिंहपर्णी पेस्ट तेजी से त्वचा विकार दूर करने में सक्षम है।

पित्ता विकार में सिंहपर्णी

सिंहपर्णी काढ़ा सेवन पित्ताशय में दर्द, पित्त थैली संक्रमण, सूजन, ब्लौकेज मिटाने में सहायक है। पित्ताशय विकार रोगी के लिए सिंहपर्णी पौधे का सेवन अमृत औषधि का काम करता है।

सिंहपर्णी तेल

सिंहपर्णी तेल बालों को जड़ मजबूत सुन्दर और त्वचा को निखारने में खास है। सिंहपर्णी तेल प्राकृतिक सुरक्षित गुणों का भरपूर भण्डार है। जोड़ो गठिया में सिंहपर्णी तेल मालिश खास दर्द निवारण है।

सिंहपर्णी चाय के फायदे

सिंहपर्णी फूल, पत्तों, जड़ की बनी चाय रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक है। प्रचीनकाल में सिंहपर्णी पेय खास तौर पर प्रसिद्व थी।

कैंसर रोधक सिंहपर्णी

सिंहपर्णी सेवन रक्त सेल्स को दुरूस्त करने में सहायक है। सिंहपर्णी में एंटीआक्सीडेंट, एंटीबायोटिक मिश्रण गुण मौजूद है।

रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये सिंहपर्णी

सिंहपर्णी में एंटीआक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, फंगल, एंटीसेप्टिक गुण हैं, जोकि संक्रामण, वायरल, रोगाणुओं से बचाने में खास सहायक है। ठंड मौसम में सिंहपर्णी और अदरक मिश्रण चाय पेय खास दवा का काम करती है।

सिंहपर्णी जूस

सिंहपर्णी जूस स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। सिंहपर्णी जूस पाचन विकार और रक्त विकार दुरूस्त करने में सहायक है।

सिंहपर्णी सेवन में सावधानियां 

  • सिंहपर्णी गर्भवती महिला के लिए सेवन मना है।
  • छोटे बच्चों के लिए सिंहपर्णी सेवन मना है।
  • सिंहपर्णी चाय में मिलाकर सेवन करें, सिंहपर्णी सीधे सेवन करने से बचें।
  • सिंहपर्णी केवल 1 से 2 चम्मच ही एक दिन में सेवन करें।
  • अधिक मात्रा में सिंहपर्णी सेवन से पेट दर्द, पेट सूखने, पेट गैस की समस्या का कारण बन सकता है।