हरी मिर्च खाने के फायदे, नुकसान और उपयोग Green Chilli Benefits in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide हरी मिर्च खाने के फायदे, नुकसान और उपयोग Green Chilli Benefits in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

हरी मिर्च खाने के फायदे, नुकसान और उपयोग Green Chilli Benefits in Hindi

खाने में हरी मिर्च शामिल हो जाये तो जायका ही बदल जाता है। दूसरी ओर हरी मिर्च ज्यादा सेवन करें तो स्वास्थ्य बिगड़ने में देरी नहीं लगती है। लाल मिर्च पाउडर की बजाय अगर हरी मिर्च का उपयोग किंचन में सब्जि, दाल, पकवान, व्यंजन तैयार करने में किया जाय तो कई गुना फायदे है। खाने में मिर्च इस्तेमाल सीमित मात्रा में करें। ज्यादा तीखा र्मिचीला खाना सीधे किड़नी, दिल, लीवर, मस्तिष्क पर दुष्प्रभाव डालता है। ज्यादा मिर्च सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।

हरी मिर्च के गुण :  हरी मिर्च विटामिन सी, विटामिन बी कम्पलैक्स, आयरन, कैरोटीन कम्पलैक्स, पौटेशियम, लुटैन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट मिनरलस भरपूर मात्रा में मौजूद हैं।

हरी मिर्च खाने के फायदे / हरी मिर्च बेनिफिट्स / Green Chilli Benefits / Hari Mirch ke Fayde / Hari Mirch Benefits


hari- mirch- khane- ke- fayde, Green-Chilli-Benefits, green-chilli, hari-mirch , हरी - मिर्च

हरी मिर्च आंखों की रोशनी बढ़ाये 
बहुत लोग कहते हैं कि मिर्च खाने से आंखें कमजोर होती है। परन्तु शोध में पाया गया है कि अगर रोज लाल मिर्च पाउडर सेवन की बजाय हरी मिर्च इस्तेमाल किया जाय तो आंखों की कमजोर रोशनी बढ़ाई जा सकती है। हरी मिर्च केरोटीन कम्पलैक्स और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में मौजूद है। जोकि आंखों की रोशनी बढ़ाने में सक्षम है। हरी मिर्च प्राकृतिक एन्टीआक्सीडेन्ट है। हरी मिर्च संक्रामण बायरल रोकने में सहायक है।

दर्द निवारण हरी मिर्च 
जोड़ों के दर्द, गठिया दर्द होने पर लाल मिर्च पाउडर के बजाय हरी मिर्च का सेवन फायदेमंद है। जोड़ों गठिया दर्द को कम करने में हरी मिर्च सक्षम है। हरी मिर्च में पाये जाने वाला पौटेशियम, विटामिन ए, आयरन और कार्बोहाइड्रेट रक्त संचार को तीव्र और सुचारू कर देता है। हरी मिर्च रोगप्रतिरोधक क्षमता बढाती है। हरी मिर्च और लहसुन को तेल में पका कर गठिया दर्द निवारण में सहायक है।

कैंसर रोके हरी मिर्च 
हरी मिर्च में क्रीप्टोवरथिंन बी, लुटेन जब्रनथिन और एन्टीआॅक्सीडेन्ट मौजूद है जोकि कैंसर रेडिकल कोशिकओं को बचाने में सहायक है। हरी मिर्च कैंसर से ग्रसित रक्त एवं वहिकाओं को पुन सक्रीय करने में सक्रीय है। जो लोग रोज हरी मिर्च सेवन करते हैं, वें कैंसर जैसी भयानक बीमारी से दूर रहते हैं। विज्ञान हरी मिर्च को कैंसर दवा के रूप में स्वीकार कर चुका है। कैंसर ग्रसित व्यक्ति को लाल मिर्च के वजाय हरी मिर्च सेवन फायदेमंद है। हरी मिर्च भी सीमित मात्रा में सेवन करें। ज्यादा मिर्च सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

त्चवा विकार मिटाये हरी मिर्च 
हरी मिर्च मौजूद विटामिन ई मिनरलसे पाये जाते हैं। और पौटेशयम प्रचुर मात्रा में मौजूद है। त्वचा रोगों विकारों को दूर करने में हरी मिर्च सक्षम है।

वजन घटाये हरी मिर्च 
कैलोरी फैटी एसिड की मात्रा मौजूद नहीं है। जोकि वजन घटाने में सहायक है। रोज खाने, पकवाने आदि में हरी मिर्च का सेवन तेजी से वजन घटाने में सहायक है।

ब्लडप्रेशर घटाये हरी मिर्च 
हरी मिर्च फाइबर युक्त भोजन को पाचन क्रिया शीध्र करती है। जिससे ब्लडप्रेशर काबू में रहता है। ब्लडप्रेशर में लाल मिर्च पाउडर का सेवन वर्जित है। खाने पकवान में लाल मिर्च के बजाय हरी मिर्च का सेवन फायदेमंद है।

हरी मिर्च दांतो हड्डियों को मजबूत रखे 
दांतों में लगने वाले कीड़ा, कैल्शियम की कीम से हड्डियों दांतो के दर्द जकडन हिलने की समस्या को दूर करने में हरी मिर्च सहायक है। हरी मिर्च में आयरन, कार्बोहाइड्रेट और कैल्शियम मात्रा मौजूद है।

कुत्ते, कीड़ा, विच्छू के काटने पर लाल मिर्च 
बहुत कम लोग जाने हैं कि कुत्ते, कीड़ा, विच्छू के काटने पर लाल मिर्च को देशी धी के साथ पका कर लगाने से विषाक्त घाव जहर 15-20 मिनट में समाप्त हो जाता है। कुत्ते, कीड़ा, विच्छू जानवर के दांतों की कटी अंग पर मिर्च का असर बहुत कम होता है। वही मिर्च अगर स्वस्थ शरीर के कटे अंग में लग जाय तो व्यक्ति की जलन पीड़ा से बुरा हाल हो जाता है। परन्तु त्वचा जहरीली होने पर मिर्च असर बहुत कम होता है। क्योंकि मिर्च प्राकृतिक एन्टीबायोटिक औषधि है।

बालों का रोग 
सिर के एक हिस्से से बालों का साफ होना। यानिकि पूरे सिर पर बाल होना केवल कुछ हिस्से से बाल जड़ से निकल जाना जैसी समस्या। यह एक तरह का Hair Disease / बालों का रोग है, बाल सिर के किसी भी हिस्से से अचानक गायब हो जाते हैं। इस तरह की समस्या में उपरोक्त उपायों के साथ हरी ताजी मिर्च पीसकर रोज रात सोने से पहले सिर के बाल निकले खाली जगह पर लगातार 2-3 महीने तक मात्र लगाने से सिर के गायब बाल दोबारा उग आते हैं। पहले बाल हल्के भूरे रंग में उगते हैं। फिर साल भर के अन्तराल में काले घने हो जाते हैं।

हरी मिर्च के नुकसान / Hari Nirch ke Nuksan

  • हरी मिर्च सेवन पाईल्स-बवासीर मरीज के लिए मना है।
  • हरी मिर्च सेवन हृदय घात, पेट जलन, त्वचा एलर्जी रोग में मना है।
  • मूत्र रोग, फूड पाईजन में हरी मिर्च सेवन वर्जित है।
  • हरी मिर्च का सेवन सीमित मात्रा में करें। ज्यादा मिर्च स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। कई लोग हरी मिर्च की सब्बजी खाना पसन्द करते हैं। जोकि आयु बढ़ने के साथ रोगों को निमंत्रण देती है। 1-2 से ज्यादा हरी मिर्च सेवन न करें।
  • लाल मिर्च पाउडर ब्लडप्रेशर को बढ़ावा देता है। लाल मिर्च के बजाय हरी मिर्च का सेवन फायदेमंद है।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए मिर्च सेवन वर्जित है। लाल मिर्च सेवन कम से कम मात्रा में करें। स्वाद के लिए खाने में 1 हरी मिर्च पीसकर सेवन कर सकते हैं।
  • किडनी विकारों में हरी मिर्च और लाल मिर्च का सेवन न करें। स्वाद के लिए हरी मिर्च का सेवन सीमित मात्रा में कर सकते हैं।
  • मिर्च भून कर खायें। भुनी मिर्च पेट में जलन दर्द पैदा कर सकती है।

मिर्च का असर निष्क्रीय कैसे करे
  • अकसर कई बार गलती से व्यक्ति मिर्च पाउडर शरीर के कटी फटी त्वचा जगह पर, छालों पर, आदि जगह पर लग जाय तो, तुरन्त देशी घी का लेप करना न भूले। देशी घी मिर्च के असर को तुरन्त निष्क्रीय कर देती है। जलन मिर्च तुरन्त ठीक हो जाती है।
  • खाने में ज्यादा मिर्च पड़ने पर खाने का जायका बदल जाता है। ज्याद मिर्च किड़नी को प्रभावित करती है। ज्यादा मिर्चीला नहीं खायें। और ज्यादा मजबूरी होने पर मिर्चीले खाने सब्जी में 1-2 चम्मच देशी घी मिलाकर खायें।
  • सब्जी में मिर्च ज्यादा पड़ने पर देशी घी मिश्रण करने से मिर्च का असर कम हो जाता है। ज्यादा मिर्चीला तीखा खाना गैस, एसिडिटी कब्ज, पाचन विकार उत्पन्न करती है। ज्यादा तीखा मिर्चीला खाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • तीखा मिर्चीला खाने पकवान आदि खाने के तुरन्त बाद थोड़ी सी चीनी, शर्कर, गुड़, सौफ जरूर खायें। मिर्च के दुष्परिणाम को काफी हद तक मीठा / Sweet Dish कम करने में सहायक है।