मुलहठी और सुहागा अस्थमा औषधि Suhaaga and Mulhathi Formula for Asthma in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide मुलहठी और सुहागा अस्थमा औषधि Suhaaga and Mulhathi Formula for Asthma in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

मुलहठी और सुहागा अस्थमा औषधि Suhaaga and Mulhathi Formula for Asthma in Hindi

मुलहठी और सुहागा का पाउडर अस्थमा के लिए रामबाण दवा माना जाता है। मुलहठी और सुहागा दमा के साथ - साथ फेफड़ों, पेट, गले, खांसी से सम्बन्धित समस्याओं से निजात के लिए फायदेमंद है। सुहागा मुलहठी दमा क्योर करने में सहायक है। सुहागा मुलहठी चूर्ण सेवन मात्र 15-20 दिनों में ही पुराने से पुराना दमा रोग को निष्क्रीय करने में सहायक है। यह प्राचीनकालीन अस्थमा की घरेलू औषधि है।

मुलहठी और सुहागा अस्थमा औषधि / Suhaaga and Mulhathi Formula for Asthma


मुलहठी- और- सुहागा- अस्थमा- औषधि , Suhaaga- and- Mulhathi- Formula- for- Asthma- in- Hindi,  Natural -Home -Remedies- For- Asthma, mulethi -suhaga- cure- to- asthma,


मुलहठी और सुहागा चूर्ण 
मुलहठी और सुहाग फूल(भुना फूला सुहागा) दोनों को बराबर मात्रा में लें। फिर दोनो को बारीक पीस कर पाउडर तैयार कर लें। मुलहठी और सुहागा चूर्ण खांसी, जुकाम, कफ, अस्थमा जैसे बीमारियों के लिए अजमाई दवा मानी जाती है।

सुहागा चूर्ण फूल कैसे बनायें 
लोहे की स्वच्छ बर्तन में सुहागे डालें। तेज आंच रखें। जैसे सुहागे की खील, फूलना शुरू हो जाये, उसे दूसरे तरफ पलटें। सुहागा पूरी तरह से फूल जाने पर हल्का ठंड़ा होने पर बारीक पीस कर चूर्ण तैयार कर लें।

चूर्ण सेवन तरीका 
मुलहठी और सुहागा चूर्ण 4 ग्राम को गुन गुने पानी में घोलकर सेवन करें। और चुटकी भर चूर्ण को एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर चाट कर सेवन करने से दमा ठीक करने में सक्षम है।

मुलहठी और सुहागा के फायदें
  • मुलहठी और सुहागा चूर्ण दमा पीड़ित व्यक्ति के लिए रामबाण दवा है।
  • लम्बी पुरानी खांसी से निजात के लिए मुलहठी और सुहागा प्राकृतिक औषधि से कम नहीं है।
  • छोटे बच्चों के दांत आते समय दर्द से निवारण और आसानी से दांत निकलने में सहायक। छोडा सा आधा ग्राम सुहागा बच्चें की दांत मीर पर हल्का मसल कर लगाने से दांत आसानी से निकल आते हैं।
  • सर्दी जुकाम, कफ, खांसी में मुलहठी और सुहागा कारगर सिद्व है।
नोट: मुलहठी और सुहागा चूर्ण 3-4 ग्राम ही लें। ज्यादा सेवन न करें। सुबह शाम सेवन गर्म पानी, शहद के साथ सेवन करें। चावल, दही, केला, आइस्क्रीम, ठंडी चीजें, तली भुनी चीजों से परहेज करें।