जामुन मधुमेह - डायबिटीज में रामबाण औषधि Jamun Natural Remedies for Diabetes in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide जामुन मधुमेह - डायबिटीज में रामबाण औषधि Jamun Natural Remedies for Diabetes in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

जामुन मधुमेह - डायबिटीज में रामबाण औषधि Jamun Natural Remedies for Diabetes in Hindi

जामुन मधुमेह पीड़ित व्यक्ति के लिए प्राकृतिक रामबाण दवा है। जामुन फल हो या जामुन पत्ते, गुठली हर तरह से शुगर लेवल नियंत्रण करने और शुरूआती डायबिटीज को मिटाने में सक्षम है। जामुन स्वस्थ व्यक्ति को भी जरूर खाने चाहिए। जामुन खाने से शरीर में डायबिटीज होने की संभावनाएं ना के बराबर रहती है। और डायबिटीज होने पर तुरन्त नियत्रंण करने में जामुन अति सक्षम है। जामुन कई तरह के पेय, औषधियां और सौन्दर्य प्रसाधनों में इस्तेमाल किया जाता है। जोकि महंगे दामों में उपलब्ध होते हैं। जामुन एक तरह से प्राकृतिक औषधि रूप है। जामुन शरीर में पनपने वाले रोगों को तुरन्त निष्क्रीय करने में सहायक है। और डायबिटीज मरीज के लिए जामुन किसी अमृत औषधि से कम नही है।

जामुन मधुमेह - औषधि / Jamun Natural Remedies for Diabetes in Hindi / Jamun Phal / Jamun Seed Powder for Diabetic Patient / Jamun Diabetic Marij ke liye

जामुन- मधुमेह - डायबिटीज- में- रामबाण- औषधि, Jamun- Natural- Remedies- for- Diabetes- in- Hindi,  जामुन- मधुमेह-औषधि, Jamun- Diabetes- Remedies, Blackberries- Cure- Diabetes

जामुन में पोटेशियम, फास्फोरस, फाइबर, आयरन, कैल्शियम, कैरोटीन, सोडियम, मैग्रीशियम, विटामिन बी, विटामिन सी और ग्लूकोज और फ्रक्टोज तत्व प्रचुर मात्रा में पायें जाते हैं। जोकि डायबिटीज मरीज के लिए प्राकृतिक रामबाण औषधि रूप में हैं।

जामुन फल में पाये जाने वाले खास तत्व:

जामुन डायबिटीज नियंत्रण करने में खास है। जामुन फलों में सौंठ पाउडर (सूखी अदरक), कालानमक के साथ सेवन करना फायदेमंद है। जामुन डायबिटीज से होने वाले किड़नी, फेफड़े, दिल, पाचन दुष्प्रभावों से बचाने में सक्षम है।

शुगर तुरन्त नियत्रंण करे जामुन काढ़ा 

मधुमेह में शुगर लेवल बढ़ने और शुगर लेवन को नियमित नियत्रंण करने के लिए रोज सुबह शाम जामुन का काढ़ा अति फायदेमंद है।

जामुन काढ़ा बनाने की विधि

100 ग्राम काले पके जामुन को आधा लीटर पानी में उबालें। अच्छे उबलने और गुठली अलग होने की स्थिति में उबालना बंद कर दें। ठंड़ा होने पर जामुन की गुठलियों को निचैड मसलकर कर अलग कर दें और छान ले। जामुन के काढ़े को सुबह बिना कुछ खाये सेवन करें। दोपहर और रात को सोने से पहले सेवन करें। जामुन काढ़ा मधुमेह पीड़ित व्यक्ति के लिए अचूक प्राकृतिक औषधि है।

जामुन की गुठलियों की मधुमेह औषधि

जामुन खाने और इस्तेमाल के बाद गुठलियों को छाया में सुखा लें। फिर बारीक पीसकर चूर्ण बनाकर कांच की शीशी में सुरक्षित रख लें। शुगर मरीज रोज सुबह शाम खाली पेट जामुन की गुठलियों के पाउडर ठंड़े पानी के साथ सेवन करने से शुगर लेवल नियत्रंण करता है। जामुन डायबिटीज में प्राकृतिक इंसुलिन है।

जामुन पत्तियों का काढ़ा

जामुन के हरे और अन्दर के हल्के गुलाबी पत्ते शुगर नियत्रंण में सक्षम है। जामुन की हरी कोमल पत्तियों को थोड़े पानी में उबालें। फिर अच्छी तरह निचैड़ मसलकर रस छान कर निकाल लें। रोज तीनों वक्त जामुन हरी कोमल हल्की गुलाबी पत्तियों का काढ़ा पीने से मधुमेह नियत्रण में आ जाता है।