शहद प्राकृतिक गुणकारी चमत्कारी अमूल्य औषधि Honey Benefits in Hindi Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide शहद प्राकृतिक गुणकारी चमत्कारी अमूल्य औषधि Honey Benefits in Hindi - Margdarsan, Health Tips News Hindi, Expert Advice, Enlighten, Pursuing Knowledge, Helping Guide

शहद प्राकृतिक गुणकारी चमत्कारी अमूल्य औषधि Honey Benefits in Hindi

पौष्टिक - स्वादिष्ट शहद प्रकृति द्वारा दी गई अनमोल औषधि रूप है। मधुमक्खी शहद हजारों वर्षों तक भी खराब नही होता है। शहद जितना पुराना होता जाता है। उतनी ही ज्यादा स्वादिष्ट और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। शहद आर्युवेद में एक महाऔषधि रूप है।
 
शहद में कई प्रकार के गुणकारी तत्व पाये जाते हैं । शहद में ग्लूकोज, एकलशर्करा फक्टाॅज, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, कैल्शियम, आयोडीन, आयरन, सोडियम फास्फोरस की मात्रा प्रचुर मात्रा में पाई पाये जाते हैं। शहद साथ में एक हाइपरस्माटिक ऐजेंट का काम भी करता है। शहद में एंन्टीबैक्टीरिया और एंटीमाइकांवियल जैसे गुण भी पाये जाते हैं।
 
शहद औषधीय गुणो से भरपूर एक प्राकृतिक मधु है। रिच विटामिनस मिनरलस युक्त शहद खाने से पाचन क्रिया दुरूस्त, दिल स्वस्थ, रक्त चाप नियंत्रण, किड़नी निरोग स्वस्थ, मोटापा नियंत्रण, रक्त संचार सुचारू रखने और शरीर में स्पूर्ति शक्ति बनाये रखने में सहायक है। मधुर पौष्टिक स्वादिष्ट शहद खाने में सभी को पंसद हैं चाहे वह बच्चें हो, जवान हो या बुर्जुग जन हो। सभी को शहद पसंद है।

शहद प्राकृतिक गुणकारी चमत्कारी अमूल्य औषधि / शहद के फायदे / Honey Benefits in Hindi / Shahad ke Fayde / Healthy Honey

शहद प्राकृतिक गुणकारी चमत्कारी अमूल्य औषधि, Honey Benefits in Hindi, honey ke fayde in hindi, शहद के फायदे, shahad ke fayde, शहद के उपयोग, shahad ke upyog, shahad ayurvedic aushadhi, शहद औषधि, मधु या शहद, shahad natural remedy, पोष्टिक शहद, postic shahad, Honey Bee, Honey Benefits
  • शहद में हयूमैक्टैंट योगिक गुण पाये जाते हैं। शहद त्वचा को निखारने का एक उत्तम जरिया है। शहद को त्वचा में लगाने से त्वचा कोमल मुलायम हो जाती है। साथ में शहद त्वचा पर लगाने से झुर्रियों को दूर करता है और कोशिकाओं को मृत होने से बचाता है। चेहरे पर नमी बरकरार रहती है। शहद से कई तरह के ब्यूटी फेस पैक तैयार किये जाते हैं।
  • शहद से कई कम्पनियां सौन्दर्य सम्बन्धित क्रीमें दवायें बनाती हैं। शहद को दूध मलाई के साथ चहरे पर लगाने से चेहरा एंव शरीर स्थिर रहता है। इसे 4-5 दिन के अन्तराल में एक बार जरूर लगाना चाहिए। जिससे आप महंगे सौन्दर्य प्रोडक्स खरीदने से बच सकते हैं। प्राचीनकाल में सौन्दर्य निखार के लिए शहद एवं दूध मलाई का भरपूर मात्रा में उपयोग होता था। ओंठ फटने पर शहद एवं दूध मलाई लगाने से तुरन्त राहत मिलता है। यह ओंठों को मुलायम बनाता है। शहद और दूध मलाई एक प्राचीन कालीन जानी - मानी औषधि है। शहद को नेचुरल कास्मेटिक ब्यूटी औषधि भी कह सकते हैं।
  • अदरक के रस को शहद के साथ मिलाकर सेवन करने पर पुरानी खांसी से छुटकारा मिलता है। और कफ एवं अस्थमा से आराम मिलता है, क्योंकि शहद में कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, आयोडीन, आयरन, सोडीयम फास्फोरस की मात्रा प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। गले, स्वास सम्बन्धित समस्याओं को ठीक करने में शहद सेवन फायदेमंद है।
  • शहद का सेवन खुजली एवं त्वचा संक्रमणों बीमारियों से बचाता है। साथ में चोट लगने पर बने घाव पर लगाने से दर्द कम होता है और तेजी से घाव को भरने में मदद् करता है। क्षतिग्रस्त घाव की कोशिकाओं को जल्दी पुन-जीवित करता है। शहद में एंटी-फंगल गुण पाया जाता है।
  • शहद एक चम्मच शहद सुबह खाली पेट खाने से सारी दिनभर शरीर में ऊर्जा बहती है। एवं पाचन क्रिया दुरूस्त रखने में सहायक है।
  • शहद रक्त - ब्लड को साफ करता है, रक्त शुद्वि में शहद अहम मददगार है। और शहद उच्च रक्तचाप की स्थिति को भी नियन्त्रण में रखता है। शहद सेवन कडनी के लिए फायदेमंद और आतों की पाचन क्रिया ठीक रखता है।
  • शहद में जीवाणु रोधी गुण पाये जाते हैं। जोकि शरीर के घावों, खुजली, फुन्सी, कटे, जले, इत्यादि के जगह से तरल बेकार पदार्थ बाहर निकाल देता है और तेजी से ठीक करता है। क्योंकि शहद में शर्करा विटामिन, खनिज और अमीनो अम्ल पाये जाते हैं। शहद एक हाइपरस्माटिक एजेंट है।
  • चेहरे त्वचा पर मुंहासों के बने छेदों गडढ़ों को भरने में शहद उत्तम घरेलू उपचार है। रोज सुबह शाम शहद से चेहरे पर 5-7 मिनट तक हल्का रगड़ें।
  • तीब्र खांसी जुकाम में 1 चम्मच शहद को बारीक पीसी अदरक के साथ अच्छे से मिलाकर चबाकर खाने से सर्दी जुकाम गले की खर्रास से जल्दी आराम मिलता है। शहद अदरक मिश्रण सर्दी जुकाम के साथ-साथ गला इन्फेक्शन से आराम दिलाने में खास सहायक है।
  • गैस कब्ज एसिडिटी होने पर रोज सुबह खाली पेट शहद, नींबू गुनगुने पानी के साथ पीने से पेट पाचन सम्बन्धित समस्त समस्याओं से एक साथ छुटकारा मिलता है।
  • पीलिया दूर करे शहद : पीलिया रोग में 1 चम्मच शहद को आधा कप मूली रस के साथ सेवन करने से पीलिया जल्दी ठीक करने में सहायक है। शहद को रसीले आम के साथ भी पीलिया में सेवन कर सकते हैं।
  • गर्मी लू प्रकोप निष्क्रीय करे शहद : गर्मी लू से बचने के लिए रोज सुबह 1 गिलास पानी में आधा चम्मच शहद मिलाकर सेवन करें।
  • हाई ब्लप्रेशर में शहद अचूक औषधि है। उच्च रक्तचाप समस्या में नींबू पानी में शहद मिलाकर सेवन करना अति फायदेमंद है।
  • नित्य मात्र थोड़ी सी शहद खाने से शरीर के अंग किड़नी, हृदय, आंत, लीवर स्वस्थ रहते हैं। और पाचन तंत्र सुचारू रहता है।
  • कफ अस्थमा में शहद अदरक सेवन अचूक औषधि है। लगातार शहद अदरक सेवन से अस्थमा कफ खांसी जल्दी ठीक हो जाती है।
  • चोट, घाव, अंग सड़न जैसी समस्याओं को शीघ्र ठीक करने के लिए शहद और हल्दी लेप मालिस करना फायदेमंद है। प्राचीनतम प्रसिद्ध घाव निवारण, घाव ठीक नहीं होने, चोट संक्रमण, घाव पस बनने जैसी गम्भीर स्थिति में अचूक औषधि है।
  • शहद प्राचीनकाल से ही आर्युवेदिक औषधि के रूप में अत्यन्त उपयोग एवं सेवन में किया जाता है।शहद का उपयोग सौन्दर्य से लेकर पाचन, त्वचा एवं शरीरिक आन्तरिक उपचारों के लिए किया जाता है। शहद अपने आप में एक अमूल्य औषधि है, बस जरूरत है तो शहद के उपयोग को अलग अलग तरीके से अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग में लाना। शहद एक प्राकृतिक अमूल्य औषधि रूप है।